लक्ष्य कैसे निधार्रित करे

 


ईश्वर ने हमे जीवन दिया है तो कोई ना कोई लक्ष्य जरूर है।
बिना लक्ष्य के कोई भी व्यक्ति जीवन मे उन्नति नही कर सकता।
जैसे अगर हम घर से निकले और हमे पता ही नही है कि हमे जाना कहा है तो हम यूंही भटकते रहेंगे।
इसलिए जीवन मे कही पहुचने के लिए सफल होने के लिए एक लक्ष्य जरूर होना चाहिए।
लक्ष्य निर्धारण 


1 लक्ष्य ऐसा हो जिसे पाया जा सके-


जीवन मे लक्ष्य ऐसा होना चाहिए जो पाया जा सके असम्भ लक्ष्य नही होने चाहिए ,लक्ष्य असम्भ होने पर हम हताश ओर निराश हो सकते है और हमारा आत्मविश्वास टूट जाता है अतः लक्ष्य साध्य होना चाहिए।


2 पूरा रिसर्च करके ही लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए-


लक्ष्य ऐसी जिस होता है जिस पर हमारा पूरा जीवन टिका होता है
इसलिए हमें किसी भी लक्ष्य को निर्धारित करने से पहले
उसके बारे में पूरा research करना चाहिए और पूरी जानकारी जुटानी चाहिए तभी लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए।


3 जिसमे हमारी रुचि हो और जो हम कर सके-


लक्ष्य हमारी रुचि के अनुसार ही तय करना चाहिए जिसमें हमारी कोई रुचि नही जिसका हमे कोई ज्ञान नही है ऎसे लक्ष्यो से दूर रहना चाहिए
हमे अपनी रुचि के अनुसार ही लक्ष्य तय करना चाहिए।


4 लक्ष्य वो हो जिसमें सभी का लाभ हो-


हमे अपने निजी स्वार्थ से ऊपर उठकर सभी का लाभ हो ऐसे कार्य करने चाहिए।
हमारा लक्ष्य ऐसा होना चाहिए जिससे हमें तो लाभ हो ही साथ ही साथ दूसरे भी इसका लाभ ले पाए तभी जीवन का लक्ष्य सार्थक होता है।


5 लक्ष्य वो हो जिसमें किसी का अहित ना हो-


हमारा लक्ष्य सभी के लाभ का होना चाहिए
जिस लक्ष्य से किसी दूसरे का अहित हो ऐसा काम नही करना चाहिए नही तो हम सफ़ल नही तो पायेंगे।
अगर हमें सफल होना है तो दूसरे के हितों का भी ध्यान रखना पड़ेगा।


6 बड़े लक्ष्य को पाने के लिये छोटे छोटे लक्ष्य बनाये-

किसी भी बड़े लक्ष्य को पाने के उस लक्ष्य को छोटे छोटे टुकड़े में बांट दे।

छोटे छोटे लक्ष्य तय करें ये उस लक्ष्य को पाने के पड़ाव होते है, उन छोटे छोटे लक्ष्यो को पाने पर हम प्रेरित होते है जिससे उस लक्ष्य को पाने में आसानी रहती है और हमारा मनोबल(confidence) बढ़ता है।


7 लक्ष्य वैध ओर सकारात्मक होना चाहिए-

हमरा लक्ष्य समाजोपयोगी होना चाहिए।

ऐसा लक्ष्य नही होना चाहिए कि जो समाज और देश के लिए हानिकारक ओर क़ानूनन गलत हैं। सकरात्मक लक्ष्य होना चाहिये।


8 अपने हुनर या प्रतिभा को पहचानने-

अपना लक्ष्य अपनी प्रतिभा व हुनर को ध्यान में रखकर तय करना चाहिए जिस कार्य मे हमे knowledge हो या जिसे हम सिख सकते है उसी से संबंधित लक्ष्य बनाना चाहिए।


9 जिस कार्य मे मजा आये-

अपना लक्ष्य ऐसा हो कि उस लक्ष्य तय पहुचने की यात्रा मनोरंजक हो और उस कार्य को करने में हमे मजा आये,अगर काम हमारी रुचि का नही होगा तो सम्भावना है कि हम बीच मे ही उस काम को छोड़ दे।

अतः  हमारे जीवन मे लक्ष्य ऐसा तय करना कि जो हमारे जीवन मे खुशहाली लाये।

10. देश व समाज गर्व करे-

ये सबसे महत्वपूर्ण(important)बात है

लक्ष्य इतना जोरदार होना चाहिए कि अगर वो हासिल हो जाये तो हमारा देश और समाज हमपर गर्व (proud) करे।


Comments

Popular posts from this blog

मेडिटेशन कैसे करे

Elon musk biography in hindi